Friday, 8 December 2017

जिंदगी_नौकरी

#जिंदगी_नौकरी
आज मंज़िल का पता नहीं पर दुनियादारी की रफ़्तार में दौड़ हम भी रहे है,
रोज़ का सफ़र है राह भी वहीँ है बस रोज़ अहसास ही नये है।

कमाने के चला तो बहुत कुछ गवा बैठा सोने को गया तो ख्यालों ने घेर लिया,
ठोकरे भी खायी चालाकी से भी रूबरू हुवे पर ये मन के कच्चे लालच ने फिर बचपन की ओर मुँह फेर लिया।

दो पन्नों की डिग्री ने हमे पढ़ा-लिखा बता दिया बाकि जिम्मेदारियां का डर हमें थोड़ा काबिल भी बना गया,
फ़िर नौकरी से पाला पड़ा और सब धरा का धरा रह गया कलयुग में कव्वा मोती खयेगा कोई बहुत सही कह गया।

उम्र और समजदारी का एक दूसरे से कोई मेल नहीँ रहा पैसों से आजकल इज़्ज़त तोली जाती हैं,
सुकून अकेले रह कर मिलता हैं वरना तरक़्क़ी पर भीड़ साथ ही आती है।

#मनीष पुंडीर

Post a Comment

#हालात

#हालात Follow my writings on https://www.yourquote.in/manii #yourquote