Tuesday, 12 December 2017

#नौकरी

#घर_नौकरी 

छोड़ आया उन्हें जिन्होंने कभी हमे न अकेला छोड़ा था,
कमाने के बहाने जब हमने घर छोड़ा था।

घर भी अपने अब मोहलत पर जाते है,
आते वक़्त कुछ यादों को और जल्दी वापस आने का वादा कर आते है।


अब तो रूम लेकर रहते है घर छोड़ कर, 
बस लगे है हम भी सबकी तरह कमाई की दौड़ पर।


कभी अपनों की न सुनी आज बोस की हाँ में हाँ  मिलाते है,
कभी माँ पीछे दौड़ती थी खाने को लेकर आज अपने हाथ की जली रोटी खाते है।


Incriment/promotion वाले लोलीपोप के लालच में मशीन हम हो गए,
punctuality के चक्कर में कभी कभी तो खुली आँखों से ही सो गए।


कमाने के चक्कर में दोस्त खर्च होते जा रहे है,
छुटी मांगने जाओ तो बॉस याद दिला देता है के Increment नज़दीक अ रहे है।



नौकरी दो ही शब्दों पर टिकी है yes or sorry बाकि ज़ुबान बंद रखने को ही शायद professionalism कहते है ,कभी कभी तो सोचता हूँ के हमसे जयदा अपनी मर्ज़ी के मालिक वो है जो चाट-मूंगफली के ठेले लगा के बैठे है।

#मनीष पुंडीर
Post a Comment

#हालात

#हालात Follow my writings on https://www.yourquote.in/manii #yourquote